eng
competition

Text Practice Mode

वायु प्रदुषण पार्ट-1- BY (A.K.G...!!)

created Jan 13th, 15:50 by A.k. Goyal


1


Rating

720 words
5 completed
00:00
वायु प्राणियों के जीवन का आधार है | स्वथ्य रहने के लिए स्वच्छ पर्यावर्णीय हवा का होना आवश्यक है|  हवा की संरचना में परिवर्तन होने पर स्वास्थ्य के लिए खतरा उत्पन्न हो जाता है|  वायु प्रदुषण भारत जैसे विकासशील देश से लेकर जापान,  अमेरिका, इंग्लैंड आदि विकसित राष्ट्रों के लिए भी स्वास्थ्य समस्या बन चूका है| भारत का भोपाल गैस कांड (1984) मलेशिया एवं इंडोनेशिया के जंगलो में लगी आग से उत्पन्न धुँआ (1997) आदि वायु प्रदुषण के प्रलयंकारी उदाहरण है | “पृथ्वी सम्मेलन” की विषय सूची में वायु प्रदुषण का महत्वपूर्ण स्थान रहा है | वायु प्रदुषण श्वसन, तंत्रिका तन्त्र के रोग हृदय रोग, क्षय रोग इत्यादि बीमारियों के लिए उत्तरदायी है प्राकृतिक वातावरण के तत्वों के साथ बाहरी तत्वों की मिलावट से प्राकृतिक तत्व जब अपनी सामान्य क्रिया छोडकर विनाशकारी दिशा में सक्रिय हो जाते है तो इस क्रिया को “प्रदुषण” कहते है | इस परिभाषा के सन्दर्भ में वायु प्रदुषण वह अवस्था है जिसमे धुल, धुँआ, विषाक्त गैस, रासायनिक वाष्पो, वैज्ञानिक प्रयोगों आदि के कारण वायु की आंतरिक संरचना प्रभावित हो जाती है अर्थात विजातीय पदार्थो की अधिकता होने पर जब वायु, मनुष्य एवं उसके पर्यावरण के लिए हानिकारक हो जावे तो इस स्थिथि को वायु प्रदुषण कहते है |
वायु प्रदुषण के कारण-
वायु प्रदुषण की समस्या का समुचित आकलन करने के लिए वायु प्रदूषित होने के कारणों एवं स्त्रोतों के बारे में जानना आवश्यक है | इसको निम्न पकार से वर्गीकृत कर सकते है
औधोगिक स्त्रोत- विभिन्न प्रकार के रासायनिक उद्योग, तेलशोधक कारखाने  खाद एवं कीटनाशक फ़क्ट्री  धातु सयंत्रो आदि से निकलने वाला धुँआ कालिख धुल गैस आदि हवा को प्रदूषित करते है | उद्योगों में सम्पन्न दहन प्रक्रियाए वायु प्रदुषण के लिए मुख्यत: उत्तरदायी है |
घरेलू स्त्रोत- भोजन एवं अन्य घरेलू कार्यो के निमित्त इंधन के रूप में लकड़ी कोयला गैस तेल इत्यादि का उपयोग करते है | इनके प्रयोग से उत्पन्न धुँआ कालिख गैसे वायु संरचना को प्रभावित करती है |
वैज्ञानिक शोधकार्य-  
आणविक ऊर्जा, अन्तरिक्ष यात्रा, परमाणु तकनीक के विकास एवं शोधकार्य हेतु किये जाने वाले विस्फोट एवं क्रियाये वातावरण को प्रदूषित करती है | अन्तरिक्ष यानो, प्रक्षेपास्त्रो का नष्ट होना, रेडियोधर्मिता, तापीय असंतुलन इत्यादि का अन्तिक परिणाम पर्यावरण प्रदुषण ही है
यातायात एवं परिवहन स्त्रोत-   
शहरों में, यहा तक की छोटे कस्बो में भी बढ़ते निजी वाहन एवं यातायात के अनियंत्रित साधन वायु प्रदुषण के प्रमुख स्त्रोत सिद्ध हो रहे है | दिल्ली शहर में नगर सेवा हेतु 20,000 से भी ज्यादा सार्वजनिक एवं निजी बसे होना, मुम्बई में 3,00,000 से अधिक मोटर वाहन होना यह दर्शाता है कि यातायात के साधनों पर शीघ्र ही कारगर नियन्त्रण आवश्यक है वरना महानगरो में वायु प्रदुषण के कारण जीना दूभर हो जाएगा | वैसे भी दिल्ली का विश्व में प्रदुषण वाले शहरों में चौथा स्थान है जहा लगभग 400 किलोग्राम सीसा गैसों के माध्यम से हवा में घुलता है जो मानव के मस्तिष्क, गुर्दों एवं नाड़ी प्रणाली को बुरी तरह प्रभावित करता है | यातायात के लगभग सभी साधन ट्रक, बस, स्कूटर, मोटर साइकिल, जीप, कार आदि वायु प्रदुषण के लिए उत्तरदायी है क्योंकि ये वातावरण में हाइड्रोकार्बन, कार्बन-मोनो-ऑक्साईड, नाइट्रोजन ओक्सोइड, सीसा तथा अन्य पदाथो के छोटे छोटे कण निकालते रहते है | डीजल चालित वाहन अत्यधिक धुँआ छोडकर वायु प्रदुषण बढाते है |
अन्य स्त्रोत-
उपरोक्त के अतिरिक्त भी निम्न स्त्रोत भी वायु प्रदुषण के लिए उत्तरदायी है
उर्वरको एवं कीटनाशको का छिडकाव
कूड़ा-करकट (प्लास्टिक टायर आदि ) जलाना
ग्रीन हाउस प्रभाव और ओजोन मंडल के वातावरण में परिवर्तन होना
घटती वन सम्पदा तथा व्यावसायिक उपयोग हेतु वनों की अंधाधुंध कटाई
युद्ध  के समय रासायनिक गैसों का उपयोग
समुद्र के पेट्रोल ,तेल बहना तथा उसमें आग लग जाना
वायु प्रदुषण के संकेतक और स्वच्छता प्रक्रिया-  
वायु प्रदुषण का स्तर ज्ञात करने हेतु कुछ संकेतको की सहायता लेते है जिनके आधार पर वायु संरचना का अध्ययन कर वायु प्रदुषण की स्थिति एवं वास्तविकता का पता लगा सकते है | कुछ मुख्य संकेतक है
वायु में सल्फर डाई ऑक्सइड  की मात्रा-
धूम्र सूचकांक- इससे वायु एक कागज के टेप पर गुजारते है तथा विद्युत प्रकाशीय मापी से घनत्व का पता लगा सकते है निलम्बित या वायु में तैरते पदार्थ इस विधि से वातावरण में उपस्थित धुल एवं कालिख की मात्रा नाप कर वायु प्रदुषण का पता लगा सकते है वायु में कार्बन मोनो ऑक्साईड, नाइट्रोजन डाई ओक्साइड, सीसा, ओक्सीकारक पदार्थो इत्यादि की मात्रा ज्ञात कर वायु संरचना की स्थिति जान सकते है

saving score / loading statistics ...