eng
competition

Text Practice Mode

सॉंई टायपिंग इंस्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0 सीपीसीटी न्‍यू बैच प्रारंभ संचालक:- लकी श्रीवात्री मो0नं. 9098909565

created Wednesday January 13, 10:56 by rajni shrivatri


4


Rating

331 words
292 completed
00:00
एक बार एक आदमी को अपने बगीचे में टहलते हुए किसी टहनी से लटकता हुआ ए‍क तितली का कोकून दिखाई पड़ा। अब हर रोज वो आदमी उसे देखने लगा, और एक दिन उसने ध्‍यान दिया कि उस कोकून में एक छोटा सा छेद बन गया है। उस दिन वो वही बैठ गया और घंटों उसे देखता रहा। उसने देखा की तितली उस खोल से बाहर निकलने की बहुत कोशिश कर रही है, पर बहुत देर तक प्रयास करने के बाद भी वो उस छेद से नहीं निकल पायी, और फिर वो बिलकुल शांत हो गयी मानो उसने हार मान ली हो।  
इसलिए उस आदमी ने निश्‍चय किया कि वो उस तितली की मदद करेगा। उसने एक कैंची उठायी और कोकून को इतना बड़ा दिया की वो तितली आसानी से बाहर निकल सके और यही हुआ तितली बिना किसी और संघर्ष के आसानी से बाहर निकल आई, पर उसका शरीर सूजा हुआ था, ओर पंख सूखे हुए थे। वो आदमी तितली को ये सोच कर देखता रहा कि वो किसी भी वक्‍त अपने पंख फैला कर उड़ने लगेगी पर ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। इसके उलट बेचारी तितली कभी उड़ ही नहीं पाई और उसे अपनी बाकी की जिन्‍दगी इधर-उधर घिसटते हुए बीतानी पड़ी।  
वो आदमी अपनी दया और जल्‍दबाजी में ये नहीं समझ पाया की दरअसल कोकून से निकलने की प्रक्रिया को प्रकृति ने इतना कठिन इसलिए बनाया है ताकि ऐसा करने से तितली के शरीर में मौजूद तरल उसके पंखों में पहुच सके और वो छेद से बाहर निकलते ही उड़ सके।  
वास्‍तव में कभी-कभी हमारे जीवन में संघर्ष ही वो चीज होती जिसकी हमें सचमुच आवश्‍यकता होती है। यदि हम बिना किसी संघर्ष के सब कुछ पाने लगे तो हम भी अपंग के सामान हो जायेंगे। बिना परिश्रम और संघर्ष के हम कभी उतने मजबूत नहीं बन सकते जितना हमारी क्षमता है। इसलिए जीवन में आने वाले कठिन पलों को सकारात्‍मक दृष्टिकोण से देखिये वो आपको कुछ ऐसा सीखा जायंगे जो आपकी जिन्‍दगी की उडान को बना पायेंगे।  
 
 
 
 
 

saving score / loading statistics ...