eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा न्‍यू बैच प्रारंभ मो. 8982805777

created Tuesday February 23, 02:01 by sachin bansod


0


Rating

452 words
127 completed
00:00
देश के दो महत्‍वपूर्ण राज्‍य, उत्‍तर प्रदेश और बिहार में वार्षिक बजट पेश कर विकसित भविष्‍य की ओर बढ़ने का संकल्‍प दोहराया गया है। इन दोनों राज्‍यों के बजट का विशेष महत्‍व है, क्‍योंकि ये दोनों राज्‍य केवल राजनीतिक, बल्कि आर्थिक रूप से भी पूरे देश को शायद सबसे ज्‍यादा प्रभावित करते हैं। दोनों की ही गिनती अपेक्षाकृत पिछड़े राज्‍यों में होती है और दोनों ही प्रदेशों से रोजगार की तलाश में युवाओं को घर छोड़ने को मजबूर होना पड़ता है। पहली नजर में देखा जाए, तो उत्‍तर प्रदेश में जहां मूलभूत ढांचा विकास पर ज्‍यादा ध्‍यान केंद्रित किया गया है, वहीं बिहार का बजट विशेष रूप से बालिका महिला विकास की दृष्टि से बहुत आशा जगाता है। दोनों के बजट आकार की तुलना करें, तो बिहार का बजट उत्‍तर प्रदेश के बजट की तुलना में करीब 40 प्रतिशत ही है। उत्‍तर प्रदेश का बजट पांच लाख पचास हजार दो सौ सत्‍तर करोड़ अठहत्‍तर लाख रुपये का है, तो वहीं बिहार का बजट दो लाख अठारह हजार तीन सौ तीन करोड़ रुपये का है। आबादी के अनुपात के हिसाब से बजट का अनुपात सही है। हालांकि, दोनों राज्‍यों में विगत दशकों में यदि दक्षिणी राज्‍यों जैसी तरक्‍की होती, तो बजट कई गुना ज्‍यादा का होता। खैर, इन राज्‍यों के बजट से पता चलता है कि दोनों को अभी विकास की राह पर बहुत आगे जाना है। उत्‍तर प्रदेश का बजट पेश करते हुए वित्‍त मंत्री सुरेश खन्‍ना ने किसानों का भी पूरा ध्‍यान रखा है, तो अचरज नहीं। किसानों को मुफ्त पानी के लिए 600 करोड़ रुपये और सस्‍ते ऋण के लिए चारसौ करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे। कानपुर, गोरखपुर और वाराणसी में भी मेट्रो दौड़ेगी। दिल्‍ली-मेरठ रैपिड रेल के लिए तेरह सौ छब्‍बीस करोड़ रुपये का आवंटन विशेष रूप से ध्‍यान खींचता है। एयरपोर्ट और एक्‍सप्रेस के लिए भी बजट आवंटन स्‍वागतयोग्‍य है। टीकाकरण के लिए पचास करोड़ रुपये का प्रावधान रखा गया है। संभव है, उत्‍तर प्रदेश सरकार बजट से परे भी आने वाले दिनों में मुफ्त टीकाकरण की घोषणा करेगी। उत्‍तर प्रदेश में अगले साल चुनाव हैं और  चुनाव का असर बजट पर भी दिख रहा है। सरकार मूलभूत ढांचा विकसित करके निवेश आमंत्रित करना चाहती है, ताकि प्रदेश में रोजगार बढ़े। दूसरी ओर, बिहार में नई सरकार का यह पहला बजट है, जिसे उप-मुख्‍यमंत्री और वित्‍त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने पेश किया है। यहां ज्‍यादा जोर गांवों, महिलाओं और कौशल विकास पर है, तो इसकी जरूरत कोई भी समझ सकता है। 12वीं पास करने वाली अविवाहित लड़कियों को सरकार पच्‍चीस हजार रुपये देगी और स्नातक होने पर पचास हजार रुपये। इसके अलावा महिलाओं को पांच लाख रुपये तक का ब्‍याज मुक्‍त ऋण भी मिल सकेगा। महिला उद्यमिता के विकास के लिए यह बड़ी पहल है।  

saving score / loading statistics ...