eng
competition

Text Practice Mode

सॉंई कम्‍प्‍यूटर टायपिंग इंस्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0 सीपीसीटी न्‍यू बैच प्रारंभ संचालक:- लकी श्रीवात्री मो0नं. 9098909565

created Thursday July 22, 06:36 by lovelesh shrivatri


6


Rating

443 words
290 completed
00:00
कल्‍पना कीजिए एक ऐसे संसार की जहां सभी आयु स्‍थान, लिंग जाति के लोगों की अंतरिक्ष पर पहुंच एक समान हो। रविवार को पृथ्‍वी की सतह से अंतरिक्ष में 50 मील की यात्रा पूरी करने के बाद इंग्‍लैड के अरबपति रिचर्ड ब्रैनसन ने अंतरिक्ष की सैर का चैरिटी निमंत्रण विभिन्‍न वर्गो के उन संभ‍ावित चुनिंदा लोगों को दिया, जो अगली उड़नों में पृथ्‍वी के वायुमंडल से सटे अंतरिक्ष की सैर कर सकेंगे। तुरंत ही सोशल मीडिया पर लोगों ने रिचर्डसे इस चैरिटी का रूख पृथ्‍वी की और करने की मांग की। परन्‍तु परोपकार असमानता का हल नहीं है। मूलभूत मानवीय आवश्‍यकताओं और ब्रह्मांड की रोमांचक सैर का परस्‍पर कोई मुकाबला नहीं है। हम जमीन पर रहकर भी घुप अंधेरी रात के आकाश तक एकसमान पहुंच तब तक सुनिश्चित नहीं कर सकते जब तक कि हम संसाधनों के वितरण की समूची व्‍यवस्‍था को नहीं बदल देते। शुरूआत ऐसे की जा सकती है कि ब्रैनसन जैसे अरबपति ज्‍यादा कर भुगतान करें ताकि हम लोग यह तय कर सकें कि हमें कहां निवेश करना है। प्रत्‍येक की मूलभूत आवश्‍यकताओं की आपूर्ति करना शुरूआत है, अंत नहीं।  
पृथ्‍वी पर न्‍यायसंगत समाज का निर्माण करना अंतरिक्ष में न्‍यायसंगत भविष्‍य गढ़ने का सर्वश्रेष्‍ठ तरीका है। हबल स्‍पेस टेलीस्‍कोप से खगोल शास्‍त्र के कई प्रमुख सवालों के जवाब मिले। पृथ्‍वी पर रह रहे लोग इससे मिलने वाली तस्‍वीरों से ही अंतरिक्ष की खूबसूरती देख पाते है। आसमान को देखना और उसका अध्‍ययन करना शानोशौकात की बात है, बल्कि स्‍वतंत्रता का मूलभूत अंग है। प्रत्‍येक समुदाय ने सितारों का अध्‍ययन किया, अंतरिक्ष को लेकर अवधारणाएं दी, जिनसे ब्रह्मांड विज्ञान का विकास हुआ इसकी उत्‍पत्ति की कहानियां ब्रह्मांड की नहीं, स्‍वयं हमारी व्‍याख्‍या करती है। बदले में, ये तारे जमीन पर रास्‍ता दिखाने में हमारी मदद करते है। हम बढ़ते प्रदूषित वातावरण में ब्रह्मांड को देखने की कोशिश कर रहे है। इस क्रम में पृथ्‍वी की निचली कक्षा कमजोर नियमन वाले उपग्रहों और अंतरिक्ष के कचरे से भरती जा रही है। इसमें से बहुत से हल्‍के प्रदूषित शहरी इलाकों में रह रहे है। ब्रह्मांड को कौतूहल से देखने के लिए अंतरिक्ष यात्रा की जरूरत है, परन्‍तु इसे इस संदर्भ में उचित ठहराया जा सकता है कि पृथ्‍वी से कई समुदायों को तारों को साफ-साफ देखने तक का मौका नहीं मिलता। इसीलिए कई लोगों ने ब्रैनसन की इस उड़ान चैरिटी पर सुझाव दिया है कि बेहतर होगा यदि वह आवास, चिकित्‍सा सुविधा और शिक्षा के क्षेत्र में लोगों की समानता के अधिकार को तरजीह दें, बजाय अंतरिक्ष की सैर के अवसरों में बराबरी की बात करने के। सच तो यह है कि कोई भी बच्‍चा विस्‍मयकारी ब्रह्मांण कोतब तक सहजता से अनुभव नहीं कर सकता, जब तक कि वह भूखा है।   

saving score / loading statistics ...